यह ब्लॉग खोजें

शुक्रवार, दिसंबर 31, 2010

नव वर्ष

नव ऊषा की नवल रश्मि ये,
नव प्रभात ले आई है |
नव उपवन की ये किसलय,
जो चहूँ दिशा महकाई है|
मन प्रसून तन उपवन बन कर,
मलय बसंत बहाया है |
अहो भाग्य है, हम सब का,
जो नवल क्रांति ले आया है |
हे पथिक रुकना मत आगे,
तुमको बढ़ते जाना है |
बढ़ कर स्वागत कर लो,
कल ही इसको आना है |
कल ही इसको आना है ||
      (आप सभी को नव वर्ष मंगलमय हो)
                             दीपांकर कुमार पाण्डेय 
-:सर्वाधिकार सुरक्षित :- 

30 टिप्‍पणियां:

  1. हे पथिक रुकना मत आगे,
    तुमको बढ़ते जाना है |
    बढ़ कर स्वागत कर लो,
    कल ही इसको आना है |
    कल ही इसको आना है ||

    बहुत अच्छी तरह से नए साल का स्वागत आपने किया है.
    मेरी तरफ से:-
    नया साल फिर आ गया,गया पुराना साल.
    खुशियों से कर जाये ये,तुमको मालामाल

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको एवं आपके परिवार को नव वर्ष की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हे पथिक रुकना मत आगे,
    तुमको बढ़ते जाना है ।
    बढ़ कर स्वागत कर लो,
    कल ही इसको आना है ।

    नव-प्रभात का स्वागत करती हुई बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुमधुर ध्वनियों भावनाओँ से सजी कविता अच्छी लगी. नववर्ष की हार्दिक मंगलकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अहो भाग्य है, हम सब का,
    जो नवल क्रांति ले आया है |
    हे पथिक रुकना मत आगे,
    तुमको बढ़ते जाना है ...

    बेहद प्रेरणादायी पंक्तियाँ ।
    आभार दीप जी।

    Happy New year !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक बेहतरीन रचना । नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ।
    काबिले तारीफ़ शव्द संयोजन ।
    बेहतरीन अनूठी कल्पना भावाव्यक्ति ।
    सुन्दर भावाव्यक्ति । साधुवाद ।
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. नव आशा में सजा रहे मन,
    नव प्रभात हो, हो नव जीवन,

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक बेहतरीन रचना । नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपको एवं आपके परिवार को नव वर्ष की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छी रचना....नव वर्ष आपके व आपके परिवार के लिए मंगलमय हो...

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. "हे पथिक रुकना मत आगे
    तुमको बढ़ते जाना है
    बढ़ कर स्वागत कर लो
    कल ही इसको आना है
    कल ही इसको आना है"
    आप ही की पंक्तियाँ आप ही को सुपुर्द कर रही हूँ दीप...काफी अच्छा लिखते हैं तथा भाषा के धनी हैं...बहुत आकर्षक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन गीत. नव वर्ष पर पुरानी बातों से कुछ नई सीख लें सकारात्मक सोच के साथ नव वर्ष का सवागत करें. आपको एवं आपके परिवार को नव वर्ष की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. ्बहुत सुन्दर सार्थक गीत , से नव वर्ष का स्वागत...बधाई..दीप

    ---१६-१४ मात्रा के पद हैं, कहीं कहीं मात्रा दोष ठीक करने हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुंदर कविता........... नव वर्ष मुबारक हो.

    उत्तर देंहटाएं
  17. bahut bahut dhanywaad Dr.shyam Gupta ji aap ne hamaari galtiyon ke baaren men hamen avgat karaaya hai. hame asha hai ki aage bhi anugrah banaaye rakhenge

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. kal hi isko aana hai.
    kal hi isko aana hai.
    bahut hi sundar bhavon se aapne nav varsh ka swagat kiya .man mohak kavita....

    उत्तर देंहटाएं
  20. हे पथिक रुकना मत आगे,
    तुमको बढ़ते जाना है |......कविता बहुत सुन्दर और भावपूर्ण है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  21. समधुर शब्द संयोजन...सुन्दर प्रेरक प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  22. bahut sunder kavita.apko bhi nav varsh tatha makar snkranti ki anek shubh kamnaye....

    उत्तर देंहटाएं
  23. shabdo ka sundar tana bana . bahut sundar kavita dost
    nav varsh mangalmy ho

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर रचना...
    यदि आप बुरा न मानें तो सिर्फ अपने ब्लॉग का कलर-कोम्बिनेशन बदल लें... ये कुछ चुभता-सा है...
    आपको भी नव-वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  25. प्रेरक एवं प्रभावकारी रचना के लिए बधाई, मंगल कामना एवं साधुवाद!

    उत्तर देंहटाएं