यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, जनवरी 18, 2011

नव गीत

कली का कल चला गया,
बहार बन के आ गयी |
निशा गयी, प्रभा हुई,
रश्मि वन में छा गयी |
मधुप जलज पे आ गए,
कुमुद भी शर झुका लिए|
पल्लवी विहर गयी,
कुंज कली खिल गयी |
तुहिन विन्दु की छटा,
विभावरी बिछा गयी |
प्रज्ञा काल आ गया,
विहग का गान छा गया |
मोहनी छटा लिए,
कंचना पिरो गयी |
कंचना पिरो गयी ||
                        दीपांकर कुमार पाण्डेय  
(सर्वाधिकार सुरक्षित )

32 टिप्‍पणियां:

  1. प्रज्ञा काल आ गया,
    विहग का गान छा गया |
    मोहनी छटा लिए,
    कंचना पिरो गयी |
    कंचना पिरो गयी ||

    वाह वाह.
    आप नवगीत बहुत अच्छा लिखते हैं दीप जी बधाई आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही भावपूर्ण नवगीत....... सुंदर प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. छायावादी प्रकृति की कविता आज भी लिखी जाती है यह देख कर सुखद अनुभव होता है. बहुत अच्छी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  4. शब्दों के जादूगर हैं आप दीप भाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या समा बांधा है,

    वाणी-कुसुम की माला से ऊषा की अर्चना हो गई!!

    कली का कल चला गया,
    बहार बन के आ गयी |
    निशा गयी, प्रभा हुई,
    रश्मि वन में छा गयी |

    उत्तर देंहटाएं
  6. नवगीत अच्छा लगा।

    शुभकामनाएं।

    - हरीश

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर गीत... शब्दों का चयन अच्छा..

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रज्ञा काल आ गया,
    विहग का गान छा गया |
    मोहनी छटा लिए,
    कंचना पिरो गयी |
    कंचना पिरो गयी
    सुन्दर नवगीत.......

    उत्तर देंहटाएं
  9. deepak ji ..
    aapko badhaaii ...likhte rahe ..nikhaar aati jaayegi ..
    agar mere blog n aaye ho to aapka swagat hai ..
    http://babanpandey.blogspot.com

    photo par bhi click kar sidhe blog tak pahunch sakte hai //

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रज्ञा काल आ गया,
    विहग का गान छा गया |
    मोहनी छटा लिए,
    कंचना पिरो गयी ...

    Bahut khoob ... sundar navgeet hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. का है यू
    कछु समझ नाहीं आवा हो
    कऊनो तकलीफ आहि का ?

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह नवगीत बहुत ही प्यारा है...बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  13. thoda kam samaj me aaya ,,but the thing i get is just awesome......

    उत्तर देंहटाएं
  14. यार हम तो फैन हो गये तुम्हारे
    क्या जादूगरी की है शब्दो की
    बेहतरीन नवगीत
    फालो कर रहा हूँ आगे भी पढना चाहूँगा

    उत्तर देंहटाएं
  15. सैनी जी स्वागत है आप का ,और बहुत बहुत धन्यवाद हौसला बढाने का

    उत्तर देंहटाएं
  16. दीपंकर जी,
    आपके विचारों से जो शब्द प्रवाह इस नव-गीत के रूप में बहा है, उसे पढ़ कर 'दिनकर' साहब की स्मृति हो आई है. बहुत ही खूबसूरत शब्द चयन, मनमोहक शैली आपको बुलंदियों पर ले जाये. शुभ कामनाओं के साथ.
    प्रोफेसर अमित हंस.
    http://avhans.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर शब्द चयन व भाव....

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूब .... ! सुंदर रचना है
    कभी समय मिले तो हमारे ब्लॉग//shiva12877.blogspot.com पर भी अपने एक नज़र डालें

    उत्तर देंहटाएं
  19. प्रज्ञा काल आ गया,
    विहग का गान छा गया |
    मोहनी छटा लिए,
    कंचना पिरो गयी |
    कंचना पिरो गयी

    बहुत प्यारी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. कली का कल चला गया,
    बहार बन के आ गयी |
    निशा गयी, प्रभा हुई,
    रश्मि वन में छा गयी |

    बहुत सुन्दर रचना । आपका यह नवगीत बहुत अच्छा लगा । बधाई स्वीकारे ।

    उत्तर देंहटाएं